Wednesday, February 9, 2011

पुरुष प्रधान देश

कल जब में ऑटो से सफ़र कर रहा था तो जो नज़ारा देखने को मिला कुछ इस तरह से था

एक मोडर्न नवयुवती ऑटो को हाथ देती हैं और ऑटो वाला रोकता हैं तो जो एक नज़र मैं देखने को मिला:-
१. कंधे पर एक बड़े आकार का लेडिस बेग
२. एक हाथ मैं लंच का बेग साथ मैं वाटर बोतल का बेग अलग से
३. दुसरे हाथ में मोबाइल जिसके द्वारा किसी से वार्तालाप ज़ारी था
४. पुरे मुह पर कपडा केवल आँखें खुली हुयी थी....बेंडिट क्वीन का आधुनिक रूप कह सकते हो

उसके बाद शेरिंग ऑटो मैं उन्हें मनवांछित सीट चाहिए होती हैं.

देखा गया है की लोग लेडिस को देख कर अक्सर सीट छोड़ देते हे पर किसी पुरुष के लिए जगह होते हुए भी उन्हें जगह देने में परेशानी होती हैं, यही हाल ऑटो वालों का भी हैं उन्हें बस लेडिस सवारी ही चाहिए, पुरुष को तो लेडिस की उपस्तिथि में वो बिलकुल नगण्य मानते है.

भारत को एक पुरुष प्रधान देश माना जाता है जहाँ पर महिला के आते ही पुरुष नाकारा साबित हो जाता है.

No comments:

Post a Comment